National  News 

लॉक डाउन में 15 साल की लड़की ने 1200 KM साइकिल चलाई, फेडरेशन ने दिया ये ऑफर

लॉकडाउन में 15 साल की लड़की ने 1200 KM साइकिल चलाई, फेडरेशन ने दिया ये ऑफर

कोरोना वायरस के कारण राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के बीच अपने पिता को साइकिल

पर बिठाकर गुरुग्राम से बिहार के दरभंगा पहुंची ज्योति को भारतीय साइक्लिंग

फेडरेशन (सीएफआई) ट्रायल का मौका देगा.

लॉकडाउन के बीच अपने पिता को साइकिल पर बिठाकर गुरुग्राम से बिहार के दरभंगा पहुंची ज्योति.लॉकडाउन के बीच अपने पिता को साइकिल पर बिठाकर गुरुग्राम से बिहार के दरभंगा पहुंची ज्योति.

 

  • CFI ने लॉकडाउन खत्म होने के बाद दिल्ली बुलाया
  • इंदिरा गांधी स्टेडियम में फेडरेशन लेगा उसका टेस्ट

कोरोना वायरस के कारण राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के बीच अपने पिता को साइकिल पर बिठाकर गुरुग्राम से बिहार के दरभंगा पहुंची ज्योति को भारतीय साइक्लिंग फेडरेशन (सीएफआई) ट्रायल का मौका देगा. फेडरेशन के चेयरमैन वीएन सिंह ने कहा कि अगर वह सीएफआई के मानकों पर थोड़ी भी खरी उतरती है, तो उसे विशेष ट्रेनिंग और कोचिंग मुहैया कराई जाएगी.

15 साल की ज्योति लॉकडाउन में अपने पिता मोहन पासवान को साइकिल पर बिठाकर 1200 किमी की दूरी सात दिनों में तय करके गुरुग्राम से बिहार के दरभंगा पहुंच गई थी. ज्योति ने रोजाना 100 से 150 किमी साइकिल चलाई. वीएन सिंह ने कहा कि महासंघ हमेशा प्रतिभावान खिलाड़ियों की तलाश में रहता है और अगर ज्योति में क्षमता है, तो उसकी पूरी मदद की जाएगी.

वीएन सिंह ने पीटीआई से कहा, ‘हम तो ऐसे प्रतिभावान खिलाड़ियों की तलाश में लगे रहते हैं और अगर लड़की में इस तरह की क्षमता है तो हम उसे जरूर मौका देंगे. अगर वह हमारे मापदंड पर खरी उतरती है, तो उसकी पूरी मदद करेंगे. विदेशों से आयात की गई साइकिल पर उसे ट्रेनिंग कराएंगे.

लॉकडाउन के बाद ज्योति को ट्रायल का मौका देने के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, ‘मैंने उससे बात की थी और उसे बता दिया है कि लॉकडाउन खत्म होने के बाद जब भी मौका मिलेगा वह दिल्ली आए और इंदिरा गांधी स्टेडियम में हम उसका छोटा सा टेस्ट लेंगे.

वीएन सिंह ने स्वीकार किया कि 15 साल की बच्ची के लिए रोजाना साइकिल चलाना आसान काम नहीं है. उन्होंने कहा, ‘14-15 साल की बच्ची के लिए रोजाना 100-150 किमी साइकिल चलाना आसान नहीं है. मैं मीडिया में आई खबरों के आधार पर ही बोल रहा हूं, लेकिन अगर उसने सचमुच में ऐसा किया है, तो वह काफी सक्षम है.

ज्योति के पिता गुरुग्राम में रिक्शा चलाते थे और उनके दुर्घटना का शिकार होने के बाद वह अपनी मां और जीजा के साथ गुरुग्राम आई थी और फिर पिता की देखभाल के लिए वहीं रुक गई. इसी बीच कोविड-19 के कारण लॉकडाउन की घोषणा हो गई और ज्योति के पिता का काम ठप पड़ गया. ऐसे में ज्योति ने पिता के साथ साइकिल पर वापस गांव का सफर तय करने का फैसला किया.

jyoti-6_052120091919.jpg

अपने घर में ही क्वारनटीन रहकर समय काट रही ज्योति ने कहा कि अगर उसे मौका मिलता है, तो वह ट्रायल के लिए तैयार है. ज्योति ने दरभंगा से फोन पर बताया, ‘साइक्लिंग महासंघ वालों का मेरे पास फोन आया था और उन्होंने ट्रायल के बारे में बताया. अभी मैं बहुत थकी हुई हूं, लेकिन लॉकडाउन के बाद अगर मुझे मौका मिलेगा, तो मैं जरूर ट्रायल में हिस्सा लेना चाहूंगी. अगर मैं सफल रहती हूं, तो मैं भी साइक्लिंग में भारत का प्रतिनिधित्व करना चाहती हूं.

तीन बहन और दो भाइयों के बीच दूसरे नंबर की संतान ज्योति ने कहा कि वह पढ़ाई छोड़ चुकी हैं, लेकिन अगर मौका मिलता है तो दोबारा पढ़ाई करना चाहती हैं. ज्योति ने कहा, ‘मैं पढ़ाई छोड़ चुकी हूं, लेकिन अगर मौका मिला, तो मैं दोबारा पढ़ाई शुरू करना चाहती हूं.



Posted By:Surendra Yadav






Follow us on Twitter : https://twitter.com/VijayGuruDelhi
Like our Facebook Page: https://www.facebook.com/indianntv/
follow us on Instagram: https://www.instagram.com/viajygurudelhi/
Subscribe our Youtube Channel:https://www.youtube.com/c/vijaygurudelhi
You can get all the information about us here in just 1 click -https://www.mylinq.in/9610012000/rn1PUb
Whatspp us: 9587080100 .
Indian news TV