kavisamelan  News 

जीवन अर्थ मर्म।।विविध मुक्तक।।

1,,,,
मनुष्य में भी ईश्वर का वास होता है
मुक्तक
जिस दिन इंसान  को इंसान में
इंसान  नज़र आयेगा

दूसरे  के  मान   में   ही  अपना
सम्मान नज़र आयेगा

जब समझ लेगा मनुष्य कि सब 
हैं एक ईश्वर की संतानें

आदमी   को आदमी  में  ही तब
भगवान नज़र आयेगा

*रचयिताएस के कपूर श्री हंस
*बरेली
मोब  9897071046
8218685464
2,,,,,,,
 जो याद रहे वह कहानी बनो
मुक्तक

बस   अपना  ही  अपना  नहीं
किसी और पर मेहरबानी बनो

चले जो   साथ हर  किसी  के 
तुम ऐसी  कोई   रवानी  बनो

जीवन  तो  है  हर  पल   कुछ
नया  कर  दिखाने   का  नाम

कोई भूल बिसरा  किस्सा नहीं
जो याद रहे  वो कहानी  बनो

रचयिताएस के कपूर श्री हंस
बरेली
मोब   9897071046
8218685464
3,,,,,,,,
 जीवन की आखिरीशाम
मुक्तक
न जाने कब जीवन की
आखरी शाम आ जाये

वह  अंतिम  दिन बुलावा
जाने का पैगाम आ जाये

सबसे  बना  कर रखें हम
दिल  की  नेक नियत से

जाने  किसी की दुआ कब
जिंदगी के काम आ जाये

रचयिताएस के कपूर
श्री हंसबरेली
मोब   9897071046
8218685464
4,,,,,,,,,,
 बस प्रेम का नाम मिले तुमको
मुक्तक

जिस  गली से  भी  गुज़रो बस
 मुस्कराता  सलाम हो  तुमको

किसी की मदद तुम कर सको
बस  यही  पैगाम  हो  तुमको

दुआयों का लेन देन हो तुम्हारा
बस  दिल  की   गहराइयों  से

प्रभु से करो    ये  गुज़ारिश कि
बस  यही  काम   हो   तुमको

रचयिता

एस के कपूर श्रीहंस

बरेली
मोब  9897071046
8218685464



Posted By:ADMIN






Follow us on Twitter : https://twitter.com/VijayGuruDelhi
Like our Facebook Page: https://www.facebook.com/indianntv/
follow us on Instagram: https://www.instagram.com/viajygurudelhi/
Subscribe our Youtube Channel:https://www.youtube.com/c/vijaygurudelhi
You can get all the information about us here in just 1 click -https://www.mylinq.in/9610012000/rn1PUb
Whatspp us: 9587080100 .
Indian news TV