International  News 

सरकार Facebook से यूजर्स की जानकारी मांग रही है

Facebook की नई ट्रांसपेरेंसी रिपोर्ट के मुताबिक, भारत सरकार और कानूनी एजेंसियां लगातार फेसबुक से यूजर्स की जानकारी के संबंध में इमरजेंसी रिक्वेस्ट कर रही है. इस रिपोर्ट के अनुसार दो साल में भारत की तरफ से की जाने वाली इमरजेंसी रिक्वेस्ट में तीन गुना बढ़ोतरी हुई है.

13 नवंबर को जारी रिपोर्ट में बताया गया है कि 2019 की पहली छमाही में भारत ने 1,615 ऐसे रिक्वेस्ट्स किये हैं. 2018 में 1478 इमरजेंसी रिक्वेस्ट्स भेजे गए. वहीं, 2017 में 460 इमरजेंसी रिक्वेस्ट्स की गईं. इस साल की पहली छमाही में जितनी रिक्वेस्ट भेजी गई हैं वो 2017 की टोटल रिक्वेस्ट की तुलना में तीन गुना से भी ज्यादा है.

यूएस-बेस्ड कंपनियों से म्यूचुअल लीगल असिस्टेंस ट्रीटी (MLAT) के तहत सरकारें डेटा मांग सकती हैं. इस तरह की रिक्वेस्ट्स को कंपनियां यूएस डिपार्टमेंट ऑफ जस्टिस के जरिए प्रोसेस करती हैं. लेकिन इमरजेंसी रिक्वेस्ट ‘लॉ एनफोर्समेंट ऑनलाइन रिक्वेस्ट सिस्टम’ के जरिए फेसबुक को सीधे भेजे जाते हैं. Facebook की रिपोर्ट में बताया गया है,

इमरजेंसी में एजेंसियां कानूनी प्रोसेस के तहत रिक्वेस्ट कर सकती है. हालात को देखते हुए हम स्वेच्छा से जानकारी दे सकते हैं. इस भरोसे के साथ की मामले को कम से कम वक्त में निपटा लिया जाएगा.

साल 2016 में फेसबुक के पास सामान्य नियमों से इतर सिर्फ एक फीसद रिक्वेस्ट पहुंचे थे लेकिन अब फेसबुक को जितने भी रिक्वेस्ट मिल रहे हैं उसमें 7 फीसद इमरजेंसी रूट से आते हैं.

इस साल सबसे ज्यादा कॉन्टेंट हटवाने के रिक्वेस्ट पाकिस्तान और मेक्सिको से मिले. तीसरे स्थान पर भारत रहा. 2019 की पहली छमाही में भारत सरकार की ओर से फेसबुक को ऐसे 1250 रिक्वेस्ट मिले. सरकार की रिक्वेस्ट पर फेसबुक ने 1211 पोस्ट, 19 पेज और ग्रुप और दो प्रोफाइल को हटाया. इसी दौरान 17 इन्स्टाग्राम अकाउंट भी बंद किए गए. ये कॉन्टेंट हेट स्पीच, हिंसा भड़काने वाले धर्म विरोधी कॉन्टेंट, मानहानि, उग्रवाद, सरकार और राज्य विरोधी जैसे थे, जिन्हें हटाया गया.

रिपोर्ट के मुताबिक, 2019 की पहली छमाही में भारत में 40 बार इंटरनेट बंद किए गए. जम्मू-कश्मीर के अलावा त्रिपुरा, मणिपुर, अरुणाचल प्रदेश, असम, उत्तर प्रदेश और राजस्थान में इंटरनेट बंद किए गए थे. इसमें कहा गया है कि चुनाव आयोग ने 2019 की पहली छमाही में 488 पॉलिटिकल विज्ञापनों को “अस्थायी रूप से प्रतिबंधित” करने की रिक्वेस्ट की थी.

स्टेटिस्टा के मुताबिक, भारत में फेसबुक यूजर बेस 2015 के 135.6 मिलियन से दोगुना होकर 2018 में 281 मिलियन हो गया है.



Reported By:ADMIN



Indian news TV