Religious  News 

छात्रों की शैक्षिक कांउसलिंग करेगी ज्योतिष विद्या

ज्योतिष आचार्या रेखा कल्पदेव कुंडली विशेषज्ञ और प्रश्न शास्त्री
8178677715, 9811598848
 
क्या आप एक माता-पिता हैं, जो शिक्षा में अपने बच्चे के भविष्य को लेकर चिंतित हैं? क्या आपको लगता है कि आपका बच्चा अपनी पढ़ाई पर पर्याप्त ध्यान नहीं दे रहा है या अपनी मेहनत का पूरा लाभ नहीं उठा पा रहा है? क्या आप अपने बच्चे की उच्च शिक्षा के लिए योजना बना रहे हैं और इसके अपने बच्चे के सही शिक्षा विषयों को जानना चाहते हैं? सभी माता-पिता को इस प्रकार के प्रश्नों का सामना कई बार करना पड़ता है। इस स्थिति से बाहर आने में ज्योतिष विद्या ऐसे माता-पिता के लिए बहुत उपयोगी साबित हो सकती है। आईये जानें कैसे-
निम्न प्रश्न माता-पिता को अपने बच्चे के शैक्षिक विषयों का चयन करते समय आते हैं-
शिक्षा की सही धारा का चयन
• आपके बच्चे की शिक्षा और कैरियर के भविष्य को जानना
• माता-पिता और बच्चे के आपसी संबंधों को हल करना
• एक अभिभावक के रूप में अपनी चिंता और डर को दूर करना
• अपने बच्चे के भावनात्मक और व्यवहार संबंधी मुद्दों को हल करना
• अपने बच्चे को प्रतियोगी परीक्षा में सफल होने में मदद करना
• किसी परीक्षा को दोबारा करते समय अच्छे अंक लाना
• शिक्षा में अपने बच्चे का मार्गदर्शन करने के लिए दिव्य आशीर्वाद की मांग करें
• अपने बच्चे की शिक्षा में ध्यान, भय या तनाव की कमी के लिए समाधान प्रदान करना
• अपने बच्चे की शिक्षा पर उपाय, कर्म-ग्रह प्रभाव
• अपने बच्चे को बुरी संगत और व्यसनों से बाहर आने में मदद करना
• बिना किसी स्पष्ट कारण के शिक्षा में अपने बच्चे के निरंतर संघर्ष पर पूर्ण विराम लगाना  
 
• आपके बच्चे की शिक्षा पर ग्रहों का प्रभाव कैसे पड़ता है-
 
आपके बच्चे की शिक्षा और उपलब्धियों को तय करने में  बुध ग्रह और बृहस्पति ग्रह महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। जब ये दोनों ग्रह दूसरे भाव (प्राथमिक शिक्षा), चतुर्थ भाव -माध्यमिक शिक्षा, पंचम भाव कॉलेज ग्रेजुएशन और नवम भाव पोस्ट-ग्रेजुएशन की शिक्षा के भाव से जुड़्ते है तो आपका बच्चा निश्चित रूप से एक शिक्षाविद के रूप में अपनी शिक्षा को आगे बढ़ाता है।

इस प्रकार, एक ज्योतिषी आपके बच्चे के जन्म चार्ट का विश्लेषण करके उसके चार्ट में ग्रहों की स्थिति के आधार पर समाधान देने में मदद करता हैं कि माता-पिता बच्चों की शिक्षा में चमक लाने के लिए अपने बच्चे को अकादमिक और मानसिक रूप दोनों प्रकार से कितना सहयोग कर सकते है।

• ज्योतिष में मूल निवासी की शिक्षा 2, 4, 5 वें और 9 वें घर से निर्धारित होती है।

• दूसरे भाव से, हम मूल के शुरुआती बचपन के अध्ययनों को, अर्थात, विकासशील अवस्थाओं और क्षमताओं को व्यक्त करने के लिए निर्धारित कर सकते हैं। यदि सूर्य, बुध, शुक्र और बृहस्पति या इन चार ग्रहों की युति, स्थिति और दॄष्टि संबंध हों तो कोई भी छात्र अपने भविष्य को उज्जवल करते हुए अध्ययन करेगा। सूर्य-बुध-शुक्र की युति 'बुद्ध-आदित्य योग' बनाती है। लेकिन, अगर शनि, राहु या मंगल जैसे दूसरे घर में कोई भी अशुभ ग्रह मौजूद हैं तो बचपन की शिक्षा को प्राप्त करने में समस्या होगी।

• 4 वें भाव से, हम छात्र की सीखने की क्षमता और भावनात्मक जुड़ाव भी निर्धारित कर सकते हैं। यदि शुक्र और बुध को 4 वें भाव में रखा गया है, तो यह सरकार और राजनीति में रुचि देता है। जबकि सूर्य और बृहस्पति जैसे ग्रह दार्शनिक अध्ययन देते हैं, 4 वें भाव में अशुभ ग्रह हो तो छात्र अध्ययन करते समय चीजों को कटिनाई से समता है। हाई स्कूल के दौरान मंगल, शनि, राहु और केतु जैसे ग्रह बहुत मुश्किल परिणाम देते हैं।

• 5 वां भाव शिक्षा का सबसे महत्वपूर्ण भाव है। यह भाव छात्र की बुद्धिमत्ता, चतुराई, समर्पण और कौशल को निर्धारित करता है, यह दर्शाता है कि छात्र उच्च शिक्षा लेने में सक्षम होगा या नहीं। यह शैक्षिक क्षेत्र में सफलता को भी निर्धारित करता है। यदि बुध, चंद्रमा या बृहस्पति इस भाव में हैं, तो हमेशा अच्छा फल देते है। लेकिन शुक्र या अन्य अशुभ ग्रह, जैसे कि शनि या राहु, 5 वें या 11 वें भाव में बैठे या शिक्षा पर नकारात्मक प्रभाव डाल रहे हैं तो शिक्षा में बहुत परेशानी आती है और इससे शिक्षा में भी देरी हो सकती है।

• 9 वें भाव से, हम उच्च शिक्षा, परास्नातक या उससे अधिक की ग्रेड या स्नातक की डिग्री निर्धारित कर सकते हैं। नवम भाव यह उच्च शिक्षा का घर है। 9 वंअ घर पर बृहस्पति का शासन है, इसलिए यह धार्मिक भावनाओं और भक्ति, आध्यात्मिकता, विज्ञान आदि को उजागर करता है।

• यह देखा गया है कि एक इंजीनियर आमतौर पर बुध, मंगल और राहु बुध, मंगल और केतु ग्रहों के प्रभाव में शिक्षा प्राप्त करता है।

• शिक्षा का सही विकल्प, छात्र के आने वाले उज्जवल भविष्य की नींव है, उसकी उपलब्धियों का मुख्य कारण है, इसलिए यदि किसी को अपनी शिक्षा को चुनने में कोई भ्रम है तो उसे किसी ज्योतिषी से सलाह लेनी चाहिए, क्योंकि इसका सही मार्गदर्शन किया जा सकता है।

 

ज्योतिष आचार्या रेखा कल्पदेव
“श्री मां चिंतपूर्णी ज्योतिष संस्थान
5, महारानी बाग, नई दिल्ली -110014
8178677715, 9811598848
 
 
ज्योतिष आचार्या रेखा कल्पदेव कुंडली विशेषज्ञ और प्रश्न शास्त्री
8178677715, 9811598848
 
ज्योतिष आचार्या रेखा कल्पदेव पिछले 15 वर्षों से सटीक ज्योतिषीय फलादेश और घटना काल निर्धारण करने में महारत रखती है. कई प्रसिद्ध वेबसाईटस के लिए रेखा ज्योतिष परामर्श कार्य कर चुकी हैं। आचार्या रेखा एक बेहतरीन लेखिका भी हैं। इनके लिखे लेख कई बड़ी वेबसाईट, ई पत्रिकाओं और विश्व की सबसे चर्चित ज्योतिषीय पत्रिकाओं  में शोधारित लेख एवं भविष्यकथन के कॉलम नियमित रुप से प्रकाशित होते रहते हैं। जीवन की स्थिति, आय, करियर, नौकरी, प्रेम जीवन, वैवाहिक जीवन, व्यापार, विदेशी यात्रा, ऋण और शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य, धन, बच्चे, शिक्षा, विवाह, कानूनी विवाद, धार्मिक मान्यताओं और सर्जरी सहित जीवन के विभिन्न पहलुओं को फलादेश के माध्यम से हल करने में विशेषज्ञता रखती हैं।

 
 
 
 



Reported By:Acharya Rekha Kalpdev



Indian news TV