Religious  News 

छठ पूजा को बनायें अलौकिक, पूजा में करें इस मंत्र का जाप  

 

ज्योतिष आचार्या रेखा कल्पदेव 

छठ पूजा, जिसे सूर्य षष्ठी के नाम से भी जाना जाता है, भारत के उत्तरी क्षेत्रों में मनाया जाने वाला एक लोकप्रिय हिंदू पर्व  है। इन क्षेत्रों में बिहार और उत्तर प्रदेश शामिल हैं। अन्य स्थानों पर जहां छठ पूजा मनाई जाती है, वे हैं छत्तीसगढ़, चंडीगढ़, गुजरात, दिल्ली, मुंबई, नेपाल और मॉरीशस। छठ सूर्य देव को समर्पित पर्व है ,  सूर्य की ऊर्जा शक्ति से ही इस धरा पर जीवन संभव है।  यह पर्व वास्तव में सूर्य देव को उनकी शक्तियों के लिए धन्यवाद  देने का एक तप रूपी पर्व है। इसके अतिरिक्त  समृद्धि और प्रगति को बढ़ावा देने के लिए सूर्य देव से आशीर्वाद लेने के लिए छठ पूजा भी की जाती है।

इतिहास

छठ पूजा की उत्पत्ति वैदिक काल से होती है, क्योंकि वैदिक ग्रंथों में सूर्य के पूजन से जुड़े कर्मकांड हैं। यह भी माना जाता है कि महाकाव्य महाभारत की द्रौपदी इसी तरह के अनुष्ठान करती थी। कुछ लोगों का यह भी मानना  है कि छठ पूजा का आरंभ सूर्य पुत्र कर्ण ने महाभारत से किया था। छठ पूजा न केवल धार्मिक रूप से महत्वपूर्ण है, बल्कि इसके कई मानसिक और शारीरिक लाभ भी हैं। शारीरिक रूप से, छठ के अभ्यास से भक्त की प्रतिरक्षा में सुधार होता है। यह भी माना जाता है कि सूरज द्वारा उत्सर्जित प्रकाश किरणें शरीर के सामान्य रखरखाव के लिए काफी लाभदायक होती हैं। प्रकृति में एंटीसेप्टिक होने के नाते, सूरज से सुरक्षित विकिरण फंगल और बैक्टीरियल त्वचा संक्रमण को ठीक करने में मदद करते हैं। छठ के दौरान प्राप्त सूर्य की रोशनी ऊर्जा प्रदान करती है जब रक्त धाराओं के साथ मिलकर सफेद रक्त कोशिकाओं को बढ़ाती है, जिससे रक्त की लड़ने की शक्ति में सुधार होता है।

यह भी माना जाता है कि सूरज की रोशनी का ग्रंथियों पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ता है और शरीर के हार्मोन के उचित स्राव में मदद करता है। सूर्य के प्रकाश से प्राप्त सौर ऊर्जा भी शरीर की ऊर्जा आवश्यकताओं को पूरा करती है। छठ का अभ्यास मानसिक शांति प्रदान करने में भी मदद करता है। छठ के दौरान हवा का नियमित प्राणिक प्रवाह क्रोध, जलन और अन्य नकारात्मक भावनाओं की आवृत्ति को कम करने में मदद करता है। छठ पूजा की पूरी प्रक्रिया से शरीर और मन का विषहरण होता है। Detoxification शरीर में ऊर्जा के स्तर को और बढ़ाता है। बढ़ी हुई ऊर्जा और प्रतिरक्षा प्रणाली शरीर में हानिकारक विषाक्त पदार्थों से लड़ने में कार्य करती है। कुछ लोगों का मानना है कि छठ प्रक्रिया आंखों की दृष्टि में सुधार करती है, त्वचा की उपस्थिति को बढ़ाती है और उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को धीमा करने में सुविधा प्रदान करती है। जो भक्त ईमानदारी से और धैर्यपूर्वक छठ पूजा के अनुष्ठानों का अभ्यास करते हैं, उन्हें कई मानसिक शक्तियों जैसे कि अंतर्ज्ञान, उपचार और टेलीपैथी से लाभ होता है।  वैदिक ज्योतिष में, सूर्य को आत्मा, पिता का कारक माना जाता है, और छठ पूजा पर सूर्य देव और षष्टी मैया की पूजा व्यक्ति, संतान, सुख और इच्छा के लिए की जाती है। सांस्कृतिक रूप से, इस त्योहार का मुख्य बिंदु परंपरा की सरलता, पवित्रता और प्रकृति के लिए प्यार है।

भारत में छठ पूजा उत्सव

हिंदू परंपरा में, षष्ठी देवी को ब्रह्मा जी की मानस पुत्री के रूप में भी जाना जाता है। पुराणों में, उन्हें माँ कात्यायनी के रूप में भी जाना जाता है, जिनकी षष्ठी तिथि को नवरात्रि पर पूजा की जाती है। षष्ठी देवी बिहार और झारखंड राज्यों की स्थानीय भाषा में छठ मइया के नाम से जानी जाती है।
छठ एक चार दिवसीय त्योहार है, जो कार्तिक शुक्ल चतुर्थी से शुरू होता है और कार्तिक शुक्ल सप्तमी के साथ समाप्त होता है।
नहाय खाय (पहला दिन)

छठ पूजा के पहले दिन, भक्त कोसी, कर्णाली या गंगा नदी में डुबकी लगाते हैं, जो भी उनके निवास के पास है और उन्हें प्रसाद तैयार करने के लिए इन नदियों से पवित्र पानी लाना पड़ता है और इस भोजन को कड्डू कहा जाता है- मिट्टी के चूल्हे के ऊपर पीतल या मिट्टी के बर्तनों और आम की लकड़ियों का इस्तेमाल करके ही भात पकाया जाता है।
खरना (दूसरा दिन)
छठ पूजा के दूसरे दिन, भक्त पूरे दिन उपवास रखते हैं और सूर्य की पूजा के बाद शाम को अपना उपवास तोड़ते हैं। शाम को भोजन करने के बाद, वे अगले 36 घंटों तक बिना पानी के उपवास होता है।
संध्या अर्घ्य (तीसरा दिन)
इस दिन भक्त घर पर प्रसाद (प्रसाद) तैयार करते हैं। शाम को प्रसाद तैयार करने के बाद, श्रद्धालु नदी, तालाब या एक आम बड़े जलघर में सिर्फ सूर्य को अर्घ्य देते हैं।
उषा अर्घ्य (चौथा दिन)
इस त्योहार के अंतिम दिन, सुबह सूर्य देव को अर्घ्य दिया जाता है। इस दिन सूर्योदय से पहले, उगते सूर्य को अर्घ्य अर्पित करने के लिए भक्तों को नदी तट पर जाना पड़ता है। यह त्यौहार तब समाप्त होता है जब भक्त 36 घंटे का लंबा व्रत (जिसे परान कहते हैं) तोड़ते हैं ।

 ज्योतिष के अनुसार छठ पूजा का महत्व

        वैज्ञानिक और ज्योतिषीय दृष्टि से भी छठ पूजा का बहुत महत्व है। कार्तिक शुक्ल पक्ष की छठी तीथि एक विशेष खगोलीय अवसर है जब सूर्य पृथ्वी के दक्षिणी गोलार्ध में स्थित होता है। इस समय के दौरान, सूर्य की पराबैंगनी किरणें पृथ्वी पर सामान्य मात्रा से अधिक एकत्र होती हैं। इन हानिकारक किरणों का सीधा असर लोगों की आंखों, पेट और त्वचा पर पड़ता है। छठ पूजा के अवसर पर सूर्य को अर्घ्य देने और पूजा करने से व्यक्ति को पराबैंगनी किरणों से नुकसान नहीं होना चाहिए।
 छठ पूजा 2019 शुभ मुहूर्त

छठ पूजा मुहूर्त नई दिल्ली, भारत के लिए

    2 नवंबर (संध्या अर्घ्य) सूर्यास्त का समय: 17:35:42
    3 नवंबर (उषा अर्घ्य) सूर्योदय समय: 06:34:11

छठ पर्व को अलौकिक और अद्भुत बनाने के लिए सूर्य देव का पूजन करने समय निम्न मंत्र  का  जाप करना अतिशुभ फल देता है-  

" ॐ घृणि सूर्याय नमः"  

आरती श्री सूर्य जी
जय कश्यप-नन्दन, ॐ जय अदिति नन्दन।
त्रिभुवन - तिमिर - निकन्दन, भक्त-हृदय-चन्दन॥
जय कश्यप-नन्दन, ॐ जय अदिति नन्दन।
 
सप्त-अश्वरथ राजित, एक चक्रधारी।
दु:खहारी, सुखकारी, मानस-मल-हारी॥
जय कश्यप-नन्दन, ॐ जय अदिति नन्दन।
 
सुर - मुनि - भूसुर - वन्दित, विमल विभवशाली।
अघ-दल-दलन दिवाकर, दिव्य किरण माली॥
जय कश्यप-नन्दन, ॐ जय अदिति नन्दन।
 
सकल - सुकर्म - प्रसविता, सविता शुभकारी।
विश्व-विलोचन मोचन, भव-बन्धन भारी॥
जय कश्यप-नन्दन, ॐ जय अदिति नन्दन।
 
कमल-समूह विकासक, नाशक त्रय तापा।
सेवत साहज हरत अति मनसिज-संतापा॥
जय कश्यप-नन्दन, ॐ जय अदिति नन्दन।
 
नेत्र-व्याधि हर सुरवर, भू-पीड़ा-हारी।
वृष्टि विमोचन संतत, परहित व्रतधारी॥
जय कश्यप-नन्दन, ॐ जय अदिति नन्दन।
 
सूर्यदेव करुणाकर, अब करुणा कीजै।
हर अज्ञान-मोह सब, तत्त्वज्ञान दीजै॥

जय कश्यप-नन्दन, ॐ जय अदिति नन्दन।


“श्री मां चिंतपूर्णी ज्योतिष संस्थान
5, महारानी बाग, नई दिल्ली -110014
8178677715, 9811598848 



Posted By:ADMIN






Follow us on Twitter : https://twitter.com/VijayGuruDelhi
Like our Facebook Page: https://www.facebook.com/indianntv/
follow us on Instagram: https://www.instagram.com/viajygurudelhi/
Subscribe our Youtube Channel:https://www.youtube.com/c/vijaygurudelhi
You can get all the information about us here in just 1 click -https://www.mylinq.in/9610012000/rn1PUb
Whatspp us: 9587080100 .
Indian news TV